शादीशुदा जीवन को खुशियों से भरा बनाने के लिए करे ये काम

ज्‍योतिष विज्ञान के अनुसार, शुक्र को पति-पत्नि, प्रेम संबंध, ऐश्वर्य, आनंद आदि का कारक ग्रह माना गया है। यदि आपकी कुंडली में शुक्र की स्थिति अच्छी है तो आपका पूरा जीवन भोग, आनंद और ऐश्वर्य के साथ बीतता है। साथ ही दाम्पत्य जीवन सुख और प्रेम से भर जाता है। मगर शुक्र का विपरीत प्रभाव होने पर दांपत्‍य जीवन में तनाव पैदा होने लगता है। इन उपायों को आजमाकर आप अपने शुक्र को खुश रख सकते हैं…

शुक्र की वस्‍तुओं से स्‍नान करने से इस ग्रह के प्रभाव को दूर किया जा सकता है। बड़ी इलाइची को पानी में डालकर उबालकर इस जल से स्‍नान करने से रूप, सौंदर्य में भी निखार आता है और शुक्र ग्रह के प्रभाव को दूर किया जा सकता है।

चूंकि शुक्र को भोग विलास का कारक माना जाता है। इसलिए सुख आराम की वस्‍तुओं का भी दान किया जा सकता है। महिलाएं सुखी दांपत्‍य जीवन के लिए श्रृंगार का सामान अन्‍य महिलाओं को दान करके लाभ प्राप्‍त कर सकती हैं।

ऊँ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा ”

शुक्र के अशुभ गोचर की अवधि या फिर शुक्र की दशा में इस श्लोक का

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Português Português हिन्दी हिन्दी العربية العربية 简体中文 简体中文 Nederlands Nederlands English English Français Français Deutsch Deutsch Italiano Italiano Русский Русский Español Español