रातभर करवटें बदलता रहा कैदी नंबर 1997: Gurmeet

अपने भक्तों के लिए कभी साक्षात भगवान तो कभी भगवान के दूत बने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम इंसां को शुक्रवार सुबह तक खुद भी नहीं पता था कि अगले दिन का सूरज उन्हें कहां दिखाई देगा। हर रोज जिस व्यक्ति की सुबह हजारों लोगों के बीच में होती थी, जेल में जब पहली सुबह आंख खुली तो चारों तरफ चारदीवारी थी। डेरा सच्चा सौदा के स्वयंभू संत गुरमीत राम रहीम को शुक्रवार रात जेल में नई पहचान मिली और उन्हें कैदी नंबर 1997 का नाम दिया गया है। शुक्रवार की शाम सेना के विशेष हेलिकॉप्टर से राम रहीम को रोहतक की सुनारियां जेल में पहुंचाया गया। रात करीब आठ बजे कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद राम रहीम को कैदी नंबर 1997 आबंटित किया गया। इसके बाद जैल मैनुअल के हिसाब से उन्हें दाल, आलू की सब्जी, दो रोटी दी गई, लेकिन उन्होंने केवल एक रोटी खाई।

इसके बाद राम रहीम एकदम चुप होकर अपनी बैरक में बैठ गए। जेल नियमानुसार रात दस बजे जेल की बत्ती बंद कर दी जाती है। राम रहीम को रात भर नींद नहीं आई। सूत्रों के अनुसार रात करीब 11 बजे राम रहीम फिर उठकर बैठ गए। इसके बाद उनके साथी कैदी ने उन्हें पीने के लिए दूध दिया। इसके बाद वे लेट तो गए पर घंटों करवटें बदलते रहे। सुबह करीब साढ़े पांच बजे फिर से उठ गए। लेकिन अब उनके आसपास न तो अनुयायियों की लंबी कतार थी और न ही सेवादारों की भीड़ थी। करीब बीस मिनट तक अकेले बैठे रहे उसके बाद उनका साथी कैदी वहां आया और उसने मांग के अनुसार ग्रीन टी दी।

इस बीच जेल महानिदेशक केपी सिंह ने राम रहीम को विशेष सुविधा दिए जाने की खबरों का भी खंंडन किया है। उन्होंने कहा कि राम रहीम को साधारण कैदी की तरह रखा गया है। जेल के नियमों के मुताबिक उन्हें सिर्फ कपड़े ले जाने की इजाजत दी गई है।सीबीआइ अदालत ने राम रहीम को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की तीन धाराओं 376 (बलात्कार), 506 (डराने-धमकाने) एवं 509 (महिला की इज्जत से खिलवाड़)- के तहत दोषी ठहराया है। राम रहीम को कम से कम सात साल सश्रम कारावास की सजा होनी तय है। निर्भया कांड के बाद पारित आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 2013 के तहत बलात्कार के अपराधियों को कम से कम सात साल के सश्रम कारावास और अधिक से अधिक आजीवन कारावास व जुर्माने का प्रावधान है।

Leave a Reply